Book Detail

Jaivik kheti Ke Naye Ayam Evam Pramanikaran
Jaivik kheti Ke Naye Ayam Evam Pramanikaran

Ebook : 30 INR     Paperback : 150 INR

3.8
3 Reviews

ISBN : 978-93-86352-56-9

Availability: In Stock

Choose Binding Type

Quantity

Check Availability At
जैव वैज्ञानिक कीट प्रबंधन प्रक्रिया में रसायनिक कीटनाशक के स्थान पर जैविक तत्वों, परजीवों, पक्षियों और प्राकृतिक परभक्षी कीटों का उपयोग किया जाता है। कम्पोस्टींग, हरी खाद बनाना, फसल चक्र, मिश्रित फसल, पक्षी दूर भगाना और ट्रेप जैविक कृषि के अन्य सिद्धांत हैं। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और कृषि एवं सहकारिता विभाग भारत में जैविक कृषि का संवर्धन करने में कार्यरत है।

Publisher : Onlinegatha

Edition : 1

ISBN : 978-93-86352-56-9

Number of Pages : 89

Weight : 100 gm

Binding Type : Ebook , Paperback

Paper Type : Cream Paper(58 GSM)

Language : Hindi

Category : Academic

Uploaded On : April 5,2017

Partners : Amazon , Smashwords , Kraftly , Markmybook

राहुल कुमार तिवारी, २०१३ से लेखन विभाग में है । लिखने के साथ-साथ, राहुल जी जैविक कृषि विभाग में ऑडिटर के पद पर काम करते है । लिखने एवं कृषि से इनका बड़ा गहरा सम्बन्ध है । पहले भी एक पुस्तक और कई कॉलम लिख चुके है
Compare Prices
Seller
Binding Type
Price
Details
HardCover
150 INR / 2.33 $
Ebook
65 INR / 1 $
HardCover
150 INR / 2.33 $
Hardcover
150 INR / 2.33 $
Customer Reviews
  • RAHUL KUMAR TIWARI

    In this book good content for field level practices and some indigenous technology use on organic farming with Organic certification process.

  • RAHUL KUMAR TIWARI

    In this book good content for field level practices and some indigenous technology use on organic farming with Organic certification process.

  • Ravindra Singh Yadav

    This type of books should be promoted and appreciated.

Ebook : 30 INR

Embed Widget

Submit Your Abstract